1125 HAIGAS PUBLISHED TILL TODAY(04.09.15)......आज तक(04.09.15) 1125 हाइगा प्रकाशित Myspace Scrolling Text Creator

यदि आप अपने हाइकुओं को हाइगा के रूप में देखना चाहते हैं तो हाइकु ससम्मान आमंत्रित हैं|

रचनाएँ hrita.sm@gmail.comपर भेजें - ऋता शेखर मधु

Friday, 4 January 2013

विभा जी के हाइकु - हाइगा में

हाइगा के मंच पर शामिल हो रही हैं आ० विभा रानी श्रीवास्तव जी
देखते हैं उनके हाइकुओं पर आधारित हाइगा

विभा रानी श्रीवास्तव






                                                                       सारे चित्र गूगल से साभार 

20 comments:

ANULATA RAJ NAIR said...

बहुत सुन्दर....
विभा जी को और ऋता जी आपको भी बधाई...
सस्नेह
अनु

yashoda Agrawal said...

नायाब तरीके से प्रस्तुत
सचित्र हाईगाकू
सादर सु-प्रभातम्

Unknown said...

विभा जी और आदरणीया रीता जी आप दोनों को बधाई खुबसूरत हाइगा .

Sriram said...

बहुत कुछ लिखना चाहते हैं ...लेकिन ....बहुत सुन्दर |www.sriramroy.blogspot.in

PK SHARMA said...

बहुत सुन्दर...
Greatest word and touching pictures.......

Thanks a lot BADI MAA

PK SHARMA said...

बहुत सुन्दर...
Touching words

yashoda Agrawal said...

सुन्दर सचित्र हाईगकू

स्वाति said...

बहुत हीं सुन्दर रचनाएं ।बधाई।:)

विभा रानी श्रीवास्तव 'दंतमुक्ता' said...

बहुत सुन्दर !!

मन की मुराद पूरी हो गई !!

आभार शब्द छोटा पड़ गया ..... !!
शुभकामनायें !!

Rohitas ghorela said...

विभा जी के सुंदर हाइकू से हाइगा जोरदार बन बैठा।

recent poem : मायने बदल गऐ

संजय भास्‍कर said...

उम्दा हाइकु
....विभा जी को और आपको बधाई..!!!

ashish said...

marvellous .

Anju (Anu) Chaudhary said...

बेहद प्रभावी हाइकु ..हाइगा सहित

रश्मि प्रभा... said...

सामर्थ्य जाना तो
हर विधा
साथ हो गई ....

शुभकामनायें यहाँ भी जगमगाने के लिए

Yashwant Mathur said...

लाजवाब!

दिगंबर नासवा said...

छोटी छोटी लाइनों में गहरी बात ...
बधाई ...

Maheshwari kaneri said...

वाह: बहुत बढ़िया..आप दोनों को बहुत बहुत बधाई..

alka mishra said...

lagtaa hai inhe samajhnaa padega.

Anonymous said...

प्रिय ऋता जी,
हमें आपको यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि ITB की सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगों की डाइरैक्टरी में आपका ब्लॉग सम्मिलित किया गया है। हम नयी डायरेक्टरी आज दोपहर तक ज़ारी कर पाएंगे। हमने एक कमेंट के रूप में यह सूचना देने की गुस्ताखी इसलिए की कि आपका ईमेल ID ब्लॉग पर नहीं मिला।
शुभकामनाओं सहित,
ITB टीम

रचना दीक्षित said...

सुन्दर भावपूर्ण हाईकू और उनका बेहतरीन हायगा में रूपांतरण अदभुत है. बधाई विभा जी और ऋता जी आप दोनों को.