1125 HAIGAS PUBLISHED TILL TODAY(04.09.15)......आज तक(04.09.15) 1125 हाइगा प्रकाशित Myspace Scrolling Text Creator

यदि आप अपने हाइकुओं को हाइगा के रूप में देखना चाहते हैं तो हाइकु ससम्मान आमंत्रित हैं|

रचनाएँ hrita.sm@gmail.comपर भेजें - ऋता शेखर मधु

Saturday, 10 December 2011

खोया खोया चाँद- हाइगा में

फ़िल्म-जगत के सदाबहार हीरो 'देव आनंद' जी को विनम्र श्रद्धांजलि
हाइगा पर जो भी हाइकु हैं, वे उस फ़िल्म के गानों पर आधारित हैं| गाने के मूल भाव को हाइकु में समेटने की कोशिश की है|
१२ स्लाइड्स


सारे चित्र गूगल से साभार

17 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत बढ़िया।

अनुपमा पाठक said...

A wonderful tribute!!!

Ravi Ranjan said...

हाइगा के माध्यम से अद्भुत एवं भावपूर्ण श्रद्धांजली|

virendra sharma said...

देव साहब का जाना हमारे व्यतीत एक हिस्से का जाना है .बेहतरीन हाइगा की मार्फ़त श्रृद्धांजलि दी है आपने .यादों के समुन्दर में डुबकी लगवादी आपने .शुक्रिया .

abhi said...

ओह...बेहद खूबसूरत!!
:) :)

सहज साहित्य said...

आपने बहुत मेहनत की इतनी स्लाइद बनाने में , फिर फिल्मी गानों को हाइकु में पिरोना ! देव साहब को सच्ची श्रद्धांजलि ! बहुत खूब

प्रियंका गुप्ता said...

देव आनन्द एक बहुत ही प्रेरणादायक व्यक्ति थे...सिर्फ़ फ़िल्मी दुनिया के लिए ही नहीं बल्कि हर इंसान के लिए...। असल में ‘रुक जाना नहीं तू कहीं हार के...’ का भाव ही उन्होंने अपने जीवन में अपनाया था और ऐसे लोग बहुत कम होते हैं...। ऐसे शानदार इंसान के लिए यह बहुत उपयुक्त श्रद्धांजलि है...।

Urmi said...

देवानंद साहब के जाने का हमें बेहद अफ़सोस है क्यूंकि उनके जैसा इंसान कोई दूजा न होगा! सिर्फ़ महान कलाकार ही नहीं बल्कि एक बहुत ही अच्छे और सच्चे इंसान थे! आपने कड़ी मेहनत करके उनके जाने माने फिल्मों की तस्वीर के साथ बहुत सुन्दरता से हाइगा प्रस्तुत किया है जो प्रशंग्सनीय है! देवानंद साहब को विनम्र श्रद्धांजलि !

दिगंबर नासवा said...

वाह ,... निराला अंदाज़ है देव साहब को याद ल्कारने का ... मैंने भी कुछ अलग अंदाज़ में याद किया है उन्हें ..

www.navincchaturvedi.blogspot.com said...

हाइगा आप की स्पेशलिटी है
बहुत सुंदर प्रस्तुतियाँ

dilbag virk said...

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
चर्चा मंच-729:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

जयकृष्ण राय तुषार said...

देवानन्द जैसे सदाबहार अभिनेता का चले जाना भारतीय सिनेमा के लिए एक अपूरणीय क्षति है |अपने बड़ी शिद्दत से देव साहब को याद किया है |इस महान अभिनेता को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि |

अशोक सलूजा said...

बहुत सुंदर ,विन्रम और भावभीनी श्रद्धांजलि!!!!
एक युग का समापन......

Rachana said...

kya baat hai anokha andaj vaese aapka andaj bahut hi anokha hai .hamesha se uska hi ye ek aur rup hai
badhai
rachana

prerna argal said...

bahut badiyaa aur anokhe dhang se aapne devsahab ko shradhanjali di hai.

आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२२) में शामिल की गई है /कृपया आप वहां आइये .और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इसी तरह हमको मिलता रहे यही कामना है /लिंक है

http://hbfint.blogspot.com/2011/12/22-ramayana.html

Kunwar Kusumesh said...

बहुत बढ़िया.

दीनदयाल शर्मा said...

बहुत सुंदर...भावभीनी श्रद्धांजलि...