1125 HAIGAS PUBLISHED TILL TODAY(04.09.15)......आज तक(04.09.15) 1125 हाइगा प्रकाशित Myspace Scrolling Text Creator

यदि आप अपने हाइकुओं को हाइगा के रूप में देखना चाहते हैं तो हाइकु ससम्मान आमंत्रित हैं|

रचनाएँ hrita.sm@gmail.comपर भेजें - ऋता शेखर मधु

Tuesday, 17 January 2012

नैनों की भाषा - हाइगा में

नैनों की भाषा
बिल्कुल ही निःशब्द
हो अभिव्यक्त |











सारे चित्र गूगल से साभार

11 comments:

Unknown said...

सुन्दर हायगा, हायकू भी दमदार बधाई

Kailash Sharma said...

लाज़वाब!

पंछी said...

nice and new :)
मिश्री की डली ज़िंदगी हो चली

vidya said...

वाह ..
बेहद खूबसूरत रचनाएँ..
और लाजवाब प्रस्तुतीकरण..

सहज साहित्य said...

अभी तक आपने बहुत अच्छा लिखा है , परन्तु आपके ये हाइकु उत्कृष्ट हाइकु का नमूना हैं। तहे -दिल से बधाई !

रेखा said...

हायकू तो बहुत अच्छा लगा ....सुन्दर प्रस्तुति

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत बढ़िया!

Rohit_blogger at http://floating-expressions.blogspot.in/ said...

pictures say much more than words can..lovely!

अशोक सलूजा said...

नयनों के पलकों की सुंदर गाथा ....
शुभकामनाएँ!

दिगंबर नासवा said...

तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है ...
और ऐसी आँखों को आपने हैगा में उतार दिया ... वाह लाजवाब ...

abhi said...

मुझे तो बड़े रोमांटिक से लगे सभी हाईकू
ये वाला प्यारा लगा -
पलक झुकी
झुक गया फ़लक
तुम्हारे लिए