1125 HAIGAS PUBLISHED TILL TODAY(04.09.15)......आज तक(04.09.15) 1125 हाइगा प्रकाशित Myspace Scrolling Text Creator

यदि आप अपने हाइकुओं को हाइगा के रूप में देखना चाहते हैं तो हाइकु ससम्मान आमंत्रित हैं|

रचनाएँ hrita.sm@gmail.comपर भेजें - ऋता शेखर मधु

Saturday, 25 May 2013

स्वर्ग के फूल - हाइगा में

गुलमोहर...तपती गर्मी में जब ऊँचे-ऊँचे पेड़ों पर लाल-लाल फूल दिखते हैं तो लगता है कि तपिश में भी बहार का मंजर होता है....आज पेश-ए-खिदमत है 'स्वर्ग के फूल' पर कुछ हाइगा...









सारे चित्र गूगल से साभार

11 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुंदर ॥चित्र बिलकुल मेल खाते हुये

देवेन्द्र पाण्डेय said...

बहुत खूब... वाह!

अरुन अनन्त said...

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (26-05-2013) के चर्चा मंच 1256 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत बेहतरीन कमाल की प्रस्तुति ,,,बधाई ,,,

RECENT POST : बेटियाँ,

Unknown said...

बहुत सुंदर
दिल को छू गई सुप्रभात
निःशब्द करती अभिव्यक्ति

प्रतिभा सक्सेना said...

लहक-लहक ,
लाल लाल गुलमोहर
कैसे इतराते !

कालीपद "प्रसाद" said...


खुबसूरत चित्र के साथ मेल खाते हाइकू -हईगा
अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
latest postअनुभूति : विविधा

Anupama Tripathi said...

सुन्दर भाव ...बहुत सुन्दर हाईगा ऋता जी ...!!

abhi said...

waah....kya baat hai...gulmohar waise hi itne khubsurat lagte hain aur uspar aapke haiku :)

Maheshwari kaneri said...

बहुत बढ़िया..

ANULATA RAJ NAIR said...

बहुत बहुत सुन्दर ऋता दी....
खिले खिले हयगा.......
जेन्नी शबनम जी ने भी गुलमोहर पर बहुत प्यारे हायकू लिखे हैं...आपके हयगा के लिए परफेक्ट :-)

सस्नेह
अनु