1125 HAIGAS PUBLISHED TILL TODAY(04.09.15)......आज तक(04.09.15) 1125 हाइगा प्रकाशित Myspace Scrolling Text Creator

यदि आप अपने हाइकुओं को हाइगा के रूप में देखना चाहते हैं तो हाइकु ससम्मान आमंत्रित हैं|

रचनाएँ hrita.sm@gmail.comपर भेजें - ऋता शेखर मधु

Thursday, 20 October 2011

जगमग जगमग

दिलबाग विर्क जी के द्वारा भेजे गए हाइकुओं पर आधारित हाइगा




सारे चित्र गूगल से साभार

9 comments:

Ravi Ranjan said...

बहुत बढ़िया हाइगा! बेहद ख़ूबसूरत ! शानदार प्रस्तुती!
वाकई जगमग जगमग दीपावली आगई|

dilbag virk said...

आभार

रविकर said...

हमें उजाला लाना ही है लव तो होता पगला
दीपक बाती झूम रहे हैं, इक पिछला इक अगला
दीवाली पर दीप जले कुछ ऐसे, ऐसे, उजला
कहाँ रौशनी खातिर देखो, मोम जरा सा पिघला

लिंक आपकी रचना का है
अगर नहीं इस प्रस्तुति में,
चर्चा-मंच घूमने यूँ ही,
आप नहीं क्या आयेंगे ??
चर्चा-मंच ६७६ रविवार

http://charchamanch.blogspot.com/

रविकर said...

इधर दिवाली हइगा खातिर, मोम जरा सा पिघला

प्रियंका गुप्ता said...

बहुत अच्छा...मेरी बधाई...।
प्रियंका गुप्ता

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर ..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

बहुत सुन्दर रचनाएं....
आपको सपरिवार दीप पर्व की सादर बधाईयां....

Unknown said...

बहुत सुन्दर!